Search
  • kuldeepanchal9

अकेला

कई बार मनुष्य सब कुछ होते हुए भी कहता है कि


बहुत अकेला हूँ


लेकिन परमेश्वर की कृपादृष्टि रहे

तो इतना विश्वास व साहस हो जाता है कि


अकेला बहुत हूँ


दृष्टिकोण को परिवर्तित करिये

जीवन को सुखमय बनाइए


*** डॉ पाँचाल

16 views0 comments