Search
  • kuldeepanchal9

स्वयं से प्रेम कार्य से प्रेम या संस्था से प्रेम

मनुष्य के जीवन में प्रेम अति आवश्यक है सभी से प्रेम किया जाता है परमेश्वर से प्रेम करोगे तो आत्मा का परमात्मा से मिलन होगा | परिवार के प्रति प्रेम में मनुष्य को उत्तरदायी होना पड़ता है मित्रों व् रिश्तेदारों से प्रेम करने पर सहयोग व् आत्मीय की भावना उत्पन्न होती है समाज से प्रेम करने पर देश भक्ति की भावना उत्पन्न होती है कर्म क्षेत्र में केवल कार्य से प्रेम करना चाहिए न कि संस्था से प्रेम |

क्यूंकि कार्य से प्रेम करोगे तो स्वयं के व्यक्तित्व में निखार आएगा लेकिन संस्था से प्रेम करोगे तो वो

आपसे प्रेम नहीं करेगी पता नहीं किस दिन संस्था आपसे प्रेम करना बंद कर दे |

*** डॉ पांचाल


#trendsetterdrpanchal#lovewithgod#lovewithperson#lovewithwork#lovewithorganisation


12 views0 comments