Search
  • kuldeepanchal9

विजय पराजय

Updated: Jun 10

जीवन के अग्नि पथ में पग-पग पर मनुष्य को भिन्न-भिन्न परीक्षाओं का सामना करना पड़ता है यह आवश्यक नहीं है कि सदैव विजय ही मिलेगी, पराजय का सामना अधिक होता है | पराजय से निराश नहीं होना चाहिए क्यूंकि कभी - कभी पराजय में इतनी चमक होती है कि विजय का रंग भी फीका हो जाता है अत; पराजय से विचलित न होते हुए मन मस्तिष्क में विचार करते मन वचन व् कर्म के अनुसार अग्नि पथ पर बढ़ते रहें |

*** डॉ पांचाल

#winner#Looser#Defeat#Win#Exam

50 views0 comments