Search
  • kuldeepanchal9

लाडला व् दुलारे

बचपन में माता पिता के बहुत लाडले थे सभी के दुलारे थे यौवन की चौखट पर बहुतों के प्यारे थे विवाह के बाद अपने परिवार के राजा थे जीवन की इस चकाचौंध में समय, समाज के थपेड़ों ने व् मनुष्यों के व्यवहार ने जीवन में कर्तव्य निष्ठां ने पुरुष को एक बैल सा बना दिया और सारा दुलार सारा प्यार धूमिल हो गया |

*** डॉ पांचाल


#trendsetterdrpanchal#ladla#dulara#dearestone

43 views0 comments