Search
  • kuldeepanchal9

लक्ष्य के बिना सपने अधूरे रहते हैं

लक्ष्य के बिना सपने सिर्फ सपने ही रहते हैं वे सपने केवल और केवल सड़क पर निराशा को हवा देते हैं यदि खुले नेत्रों के सपनों को पूर्ण करना है तो उसके लिए हमें अनुशासन में रहकर कार्य करना होता हैं लेकिन अधिक महत्वपूर्ण रूप से निरंतरता भी आवश्यक हैं क्योंकि प्रतिबद्धता के बिना हम कार्य कभी शुरू नहीं करेंगे

*** डॉ पांचाल


#trendsetterdrpanchal#dreamswithoutgoals#consistencywithdreams#commitmentwithdreams

5 views0 comments