Search
  • kuldeepanchal9

मन पर नियंत्रण असम्भव है

मनुष्य प्रकृति की अनमोल कृति है | मनुष्य के शरीर में प्रत्येक पल निरंतर रक्त प्रवाह होता रहता है इसके अतिरिक्त कुछ ऐसा भी है जिस पर मनुष्य का नियंत्रण संभव नहीं हो सकता जैसे मन में सद्विचारऔर विकार आते रहते हैं जिन पर नियंत्रण संभव ही नहीं है इसी प्रकार मनुष्य के शरीर में स्थित नाखून को बढने से रोका नहीं जा सकता शरीर पर बाल आने स्वाभाविक है बालों को रोकना व् बढ़ने से रोका नहीं जा सकता जब बालों व् नाखून को नहीं रोका जा सकता तो मन पर नियंत्रण कैसे संभव होगा ?

*** डॉ पांचाल


#trendsetterdrpanchal#mindofhumanbeing

11 views0 comments