Search
  • kuldeepanchal9

प्रकृति की निश्चित सीमा

प्रकृति ने सृष्टि की प्रत्येक वस्तु को एक निश्चित सीमा में बांध रखा है अगर समुन्द्र को उसकी इच्छानुसार आजादी दे दी गयी होती तो वह पृथ्वी की प्रत्येक शानदार व् खूबसूरत वस्तु को मृत्यु की नीदं सुला देता | प्रकृति ने इसलिए इसे चट्टानों और रेतीले साहिलों से बांध दिया है और सृष्टि के जन्म से लेकर आज तक यह चट्टानों से टकराता आ रहा है या रेतीले साहिलों को अपने विषैले झाग से मारता आ रहा है मगर क्या चट्टानों ने लहरों को रास्ता दिया या साहिलों ने दम तोडा |

*** डॉ पांचाल


#trendsetterdrpanchal#ocean#certainlimits#natureboundationsofeveryone

8 views0 comments