top of page
Search
  • kuldeepanchal9

पश्चाताप,हिमपात,रक्तपात व् उत्पात

जीवन विचित्र घटनाओं से भरा है कब समाप्त हो जाये किसी को ज्ञात नहीं होता ? जीवन में कभी- कभी ऐसी त्रुटि हो जाती है जिसके लिए पश्चाताप की अग्नि में स्वयं को जलाना पड़ता है, कभी -कभी ऐसा विवाद हो जाता है कि रिश्तों पर हिमपात हो जाता है, कभी -कभी रक्तपात भी हो जाता है, इस सबके अतिरिक्त जीवन में उत्पात चलता ही रहता है जिससे किसी को कोई अधिक असुविधा भी नहीं होती अत: समय समय पर जीवन में उत्पात चलता रहना चाहिए |

*** डॉ पांचाल


#ragging#bloodshed#repent#snowfall

46 views0 comments
Post: Blog2_Post
bottom of page