Search
  • kuldeepanchal9

जीवन एक अग्नि पथ

जीवन के अग्नि पथ पर चलते चलते जिनको मुझमें कुछ अच्छाई प्रतीत हुई उन्होंने मुझे तराशने का कार्य किया जिनको मुझमें सदैव कमियां ही प्रतीत हुई वो मुझे तलाशते ही रह गये | ऐसे दोनों प्रकार के मनुष्यों का हार्दिक अभिनन्दन करते हुए आभार प्रकट करता हूँ

***डॉ पांचाल







22 views0 comments