Search
  • kuldeepanchal9

अहंकार

Updated: May 30

अहंकार हर मनुष्यों में होता है कोई प्रदर्शित कर देता है कोई अपने तक सीमित रखता है


अहंकार इस प्रकार होता है


किसी को अपने शरीर पर,शरीर के अंगों पर,अपने मुखमंडल पर,अपने सगे सम्बन्धी पर,अपने वस्त्रों पर,भोजन पर,सम्पत्ति पर,पद पर,शिक्षा पर,अपनी स्मरण शक्ति पर,

अपने हस्तलेखन पर,अपनी धन संपदा पर,अपने वाहन पर,अपने सुसज्जित गृह पर इत्यादि

अहंकार की जन्मजात प्रवृति को अनदेखा नहीं किया जा सकता


*** डॉ पाँचाल


82 views0 comments