Search
  • kuldeepanchal9

अधार्मिक व् नास्तिक हिन्दू

हिन्दुओं से बड़ा अधार्मिक व् नास्तिक कोई नहीं हो सकता है जो अपने स्वार्थ के लिए देवी देवताओं बदल देता है व् पीर पर अपना माथा टेक देता है पिछले १६०० वर्षो से यह कटता आया है और कटता रहेगा | बहुत प्रेम से,चाव,लग्न,निष्ठां से अपने देवी देवता की मूर्ति बनाकर अपने घर में रखता है उसको भोग लगाता है उपासना करता है उस समय हिन्दुओं से बड़ा कोई आस्तिक नहीं हो सकता और कितना साहसी है कि जिस देवी देवताओं की मूर्ति को अपनी पलकों पर रखता है कुछ समय के पश्चात उस मूर्ति का जल प्रवाह भी कर देता है इस प्रकार हिन्दू से बड़ा आस्तिक,नास्तिक व् साहसी इस जगत में कोई नहीं हो सकता |

*** डॉ पांचाल

#nastik#adharmi#sahasi

39 views0 comments