Explore
Untitled
 

Subscribe Form

Thanks for submitting!

 
 
 
Search

लक्ष्य व तितली

तितली का पीछा मत करो अपने बगीचे में सुधार करो जिससे तितली वहाँ तक आ सके लक्ष्य का पीछा मत करो मन मस्तिष्क में लक्ष्य को साधकर कठिन...

सुंदरता

सुंदरता केवल और केवल मन मस्तिष्क में, दिल में, मानवता में आचरण में व आपके व्यवहार में होती है लेकिन बिना मतलब के हम ढूंढते है चेहरे में...

सुंदरता

सुंदरता केवल और केवल मन मस्तिष्क में, दिल में, मानवता में, आचरण में व आपके व्यवहार में होती है लेकिन बिना मतलब के हम ढूंढते है चेहरे में...

कोशिकाएं व किरणें

मानव शरीर में नए नए cells कोशिकायें बनती रहती है सूर्य की किरणों में प्रतिदिन नई चमक होती है लेकिन मानव अपनी पुरानी बातों को, वाद विवाद...

सुंदरता व ज्ञानवान

आप सुंदर है लेकिन जब तक आपकी सुंदरता की कोई प्रशंसा न करे तो सुंदर का अर्थ व्यर्थ आप ज्ञानी है बुद्धिमान है लेकिन जब तक आप अपने ज्ञान या...

सपने और विचार

मनुष्य को उसके अपने सपने उड़ान भरने की प्रेरणा देते हैं जबकि मनुष्य को भी पता है वो पूरे नहीं होंगे क्योंकि कुछ बन्द आँखों से भी देखे...

सपने और विचार

मनुष्य को उसके अपने सपने उड़ान भरने की प्रेरणा देते हैं जबकि मनुष्य को भी पता है वो पूरे नहीं होंगे क्योंकि कुछ बन्द आँखों से भी देखे...

मानव मात्र

अधिक गुणवान नहीं अधिक धनवान नहीं अधिक विद्वान नहीं अधिक आदर्शवान नहीं अधिक बलवान नहीं अधिक पाप पुण्य से अज्ञान नहीं अधिक चरित्रवान नहीं...

कटु शब्द

सबको लगता है कि किसी किसी मानव की वाणी में कटुता होती है कोई तो कारण रहता होगा जो मानव कटु शब्दों का प्रयोग करता है कोई भी नहीं चाहता कि...

विपरीत परिस्थिति

हमारे कर्मो से भाग्य बनता है लेकिन समय भी महत्वपूर्ण होता है जब मानव के अनुसार समय विपरीत चलता है सब कुछ विपरीत ही प्रतीत होता है ऐसे ही...

अकेला

कई बार मनुष्य सब कुछ होते हुए भी कहता है कि बहुत अकेला हूँ लेकिन परमेश्वर की कृपादृष्टि रहे तो इतना विश्वास व साहस हो जाता है कि अकेला...

समय एवं स्वार्थ

जब एक मानव का किसी दूसरे मानव से स्वार्थ कम हो जाता है तो बात करने का तरीका बदल जाता है इसके साथ -साथ अभिवादन, आदर, सत्कार,मॉन सम्मान के...

परिवर्तन

प्रकृति परिवर्तन शील है समय परिवर्तन शील है इंसान में परिवर्तन स्वाभाविक नहीं होता अपने प्रति दूसरों का दृष्टिकोण व व्यवहार तथा समय व...

भय या डर

जहाँ निडरता होती है वहाँ किसी भी प्रकार का डर या भय नहीं होता जहाँ सत्य अपने चरम पर होता है जहाँ मानव सत्य के पथ पर चलता है वहाँ कोई डर...

कद्र और समय

कद्र और समय दोनों ही समान हैं जिसकी कद्र करो उसके पास हमारे लिए समय नहीं होता जिसको समय दो उसकी दृष्टि में हमारी कोई कद्र नहीं होती है...

मोह

किसी से भी मोह के समाप्त होते ही उसका अस्तित्व ही समाप्त सा हो जाता है चाहे वो पैसा हो कोई प्यार हो कोई पद हो कोई प्रतिष्ठा हो कोई...

गलतियां

जीवन में गलतियां तो होती रहती हैं और उनसे इंसान सीखता भी बहुत है लेकिन सबसे बड़ी गलती तो कुछ इंसानों को पहचानने में हुई जिसका सबसे ज्यादा...

शिक्षकों की महत्ता

इस महामारी में सम्पूर्ण विश्व के नागरिक परेशान हैं भारत देश में लोकडौन की स्थिति में कुछ विद्वान विद्यालय की फीस माफ करवाना चाहते हैं मैं...

हम बदल गये हैं

कोई भी इस भ्रंम में न रहे कि हम बदल गये हैं हम जैसे पहले थे वैसे ही हैं पहले भी बुरे थे आज कुछ के लिए भी बुरे हैं पहले भी कटु सत्य...

हिंदी

जिस देश में हिंदी के लिए २ दबाना हो थाने व् न्यायालय में शिकायत व् निर्णय उर्दू में लिखे जाते हों देश की मात्र ७ प्रतिशत जनसंख्या...